MOBILE CAN CAUSE CANCER – मोबाइल से कैंसर का खतरा

जी हाँ अमेरिका स्थित नेशनल टोक्सिकोलॉजिकल प्रोग्राम (NTP)  के एक अध्ययन मे यह चेतावनी दी गई है.
शोधकर्ताओं के अनुसार सेलफोन दूरसंचार के लिए ‘ रेडियो फ्रीक्वेंसी रेडिएशन ‘ (RFR) नाम की रेडियो तरंगो पर निर्भर होते हैं।  ये तरंगे एक वायरलेस उपकरणों से निकलने वाले सिगनल को टावर के जरिये दूसरे वायरलेस उपकरणों तक पहुंचती हैं।
अध्ययन में यह पाया गया कि लम्बे समय तक ‘ रेडियो फ्रीक्वेंसी रेडिएशन ‘ (RFR) के संपर्क में रहने पर ना सिर्फ डीएनए को नुकसान पहुँचता है , बल्कि कोशिकाओं (CELLS) में विभाजन (DIVISION) की प्रक्रिया भी अनियंत्रित हो जाती है।  इससे शरीर में ट्यूमर (TUMOR) पनपने का खतरा बढ़ जाता है, जो आगे चलकर कैंसर बन सकता है।
यह अध्ययन जॉन बुचर के नेतृत्व में हुआ।  शोधकर्ताओं ने वर्ष 1999 से 2018 के बीच चूहों और इंसानों की सेहत पर सेलफोन से निकलने वाले विकरणों (RADIATIONS) का दुष्प्रभाव का पता लगाया।